कवि नहीं तुकबंद ज़रा हूँ 


 कवि नहीं तुकबंद ज़रा हूँ
 अति स्वच्छ में गंद ज़रा हूँ
 टाट का पैबंद ज़रा हूँ
 प्रकांड ग्यान में मंद ज़रा हूँ ॥

                 

                                  कवि नहीं तुकबंद ज़रा हूँ

 बिखरा हुआ प्रबंध ज़रा हूँ
 टूटा इक अनुबंध ज़रा हूँ
 नहीं इकधारा निबंध ज़रा हूँ
 मारा फिरता छंद ज़रा हूँ ॥

                                  कवि नहीं तुकबंद ज़रा हूँ     

 

उड़ता सा स्वछंद ज़रा हूँ
पिंजरे में भी बंद ज़रा हूँ
दुनिया का दंद-फंद ज़रा हूँ
सच की भी सौगंध ज़रा हूँ ॥

                                  कवि नहीं तुकबंद ज़रा हूँ 


 उचित अनुचित का द्वंद ज़रा हूँ                            
 नहीं समय पाबंद ज़रा हूँ
 अंधभक्त को आती दुर्गंध ज़रा हूँ
  बचपन की सुगंध ज़रा हूँ ॥

                                  कवि नहीं तुकबंद ज़रा हूँ 

 नहीं जुड़ता संबंध ज़रा हूँ
 अपने ही गले पड़ा फंद ज़रा हूँ
 सना धरा में कंद ज़रा हूँ 
 पर अपना मैं आनंद ज़रा हूँ                        

 पर अपना मैं आनंद ज़रा हूँ                                                   पर अपना मैं आनंद ज़रा हूँ ॥

                                 

                                  कवि नहीं तुकबंद ज़रा हूँ 

                                      
                                                                                                                            ---- ऐ..... जस​